वीरों को नमन

उन वीरों को नमन करें , जो रण भूमि मे अपने लहू से नहाए थे
फासी के तख्ते पर भी , जो झूम झूम मुस्काए थे
ना वो हिंदू ना वो मुस्लिम , वो भारत मां की शान थे
नमन करें उन वीरों को , जो हमारे लिए भगवान थे
सुभाष चन्द से खुदी राम तक , सबने हमारी लाज बचाई थी
अपने अपने कामों से , अपनी जगह बनाई थी
भगत सिंह हो या अशफ़ाक उल्ला , थे तो सब इस मिट्टी के लाल ही
हिंदू मुस्लिम क्यों है अब , हम सब भी तो इस मिट्टी के लाल हैं
सोचें सब गहराई से , हम सब तो रिश्तेदार हैं
मानवता का रिश्ता हममें , फिर क्यों खून बहाए हम
पूरब पश्चिम उत्तर दक्षिण , विषमताओं का देश है ये
लेकिन फिर भी ऐ दुश्मन देशों , खबरदार हो कर तुम रहना
हमारी मातृभूमि पर फिर से, कुदृष्टि तुम मत रखना
आपस मे कैसे भी हो हम सब , पर संकट में सब एक हैं
मातृभूमि की रक्षा के लिए, एक ही अनेक है !!

            
- राजेश पंत

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Pin It on Pinterest